December 2, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

pitru paksh shradh paksh

2 सितंबर से शुरू होंगे पितृपक्ष श्राद्ध, जानें श्राद्ध की तिथियां

(उत्तराखंड जन): पितृपक्ष यानी श्राद्ध बुधवार, 2 सितंबर से शुरू हो रहे हैं, जो 15 सितंबर तक रहेंगे। पितरों की शांति के लिए श्राद्ध किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, अगर पितरों को शांत ना किया जाए तो हमारा जीवन सुखमयी नहीं रहता है। पितरों की मृत्यु तिथि के हिसाब से उनका श्राद्ध या तर्पण किया जाना चाहिए। यदि आपको पितरों की मृत्यु तिथि के बारे में जानकारी नहीं है तो आप पितृपक्ष के पहले दिन और अंतिम दिन यानी अमावस्या पर तर्पण कर सकते हैं।

माना जाता ही कि, श्राद्ध में पितरों का तर्पण करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है और पितरों का आशीर्वाद भी मिलता है। 2 सितंबर के दिन पूर्णिमा का श्राद्ध किया जाएगा। इस क्रम में 17 सितंबर को अमावस्या पर पितृपक्ष का समापन होगा। माना जाता है कि, अगर कोई अपने पितरों का श्राद्ध नहीं करता या श्रद्धापूर्वक नहीं करता तो पितृ नाराज हो जाते हैं। इससे पितृ दोष लगता है।

पूर्णिमा का श्राद्ध 2 सितंबर को होगा। इस क्रम में प्रतिपदा का श्राद्ध 3, द्वितीया का 4, तृतीया का 5, चतुर्थी का 6, पंचम पंचमी का 7, षष्ठी का 8, सप्तमी का 9, अष्टमी का 10, नवमी का का 11, दशमी का 12, एकादशी का 13, द्वादशी का 14, त्रयोदशी का 15 और चतुर्दशी का 16 सितंबर को श्राद्ध कर्म किया जाएगा।

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!