December 6, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

उत्तराखंड के दो जवानों में हुआ विवाद, गोली लगने से एक जवान शहीद

तिनसुकिया: असम के तिनसुकिया जिले में सेना के एक शिविर में तीखी बहस के बाद सेना के 31 वर्षीय एक जवान की उसके एक साथी ने कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी।

मृतक की पहचान उत्तराखंड निवासी 31 वर्षीय नायक संजय चंद के रूप में हुई है!

वहीं पिथौरागढ़ की विधायक चंद्रा पंत ने सोशल मीडिया पर दुःख जताते हुए लिखा कि,  “पिथौरागढ़ के बड़ाबे तोली निवासी संजय चन्द जी के शहीद होने का दुःखद समाचार मिला है, शहीद हुए संजय चन्द आसाम में तैनात थे। उनकी शहादत से क्षेत्रवासियों में गहरा दुःख है। हम सब दुःख की इस घड़ी में परिवार के साथ है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूॅं कि दिवगंत आत्मा को शांति प्रदान करें।”

“ईस्टमोजो”  की खबर के मुताबिक, ईस्टमोजो के साथ बात करते हुए, पानीटोला पुलिस चौकी प्रभारी दीनानाथ सोनोवाल ने कहा कि 73 वीं ब्रिगेड के एक वरिष्ठ सेना अधिकारी ने उन्हें शनिवार सुबह 5.04 बजे फोन करके सूचित किया कि दो सैनिकों के बीच विवाद हुआ था, जिसमें उनमें से एक की मौत हो गई।
सोनोवाल ने कहा, “मैं पुलिसकर्मियों की एक टीम और ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट सुरेश पाठक के साथ, तिनसुकिया जिले के लैपुली में ब्रिगेड मुख्यालय पहुंचा और मौके से एक इंसास राइफल जब्त की।”

उन्होंने कहा, “हालांकि, पुलिस और मजिस्ट्रेट की अनुपस्थिति में मृतक के शव को लैपुली से दिनजान आर्मी कैंप ले जाया गया।”

सोनोवाल ने कहा, “ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट के आदेश पर, हम दिनजान आर्मी कैंप गए और शव को तिनसुकिया के सिविल अस्पताल ले आए, जहां एक अन्य ऑन-ड्यूटी मजिस्ट्रेट ने जांच की, जिसके बाद पोस्टमार्टम किया गया।”

सोनोवाल ने कहा “आरोपी लांस नायक राजेंद्र प्रसाद, जो उत्तराखंड का निवासी भी है, को गिरफ्तार कर लिया गया है। हमें घटना के बारे में उनसे अभी पूछताछ करनी है।”

एक अन्य अधिकारी के मुताबिक, मौत का कारण गोली लगने का अंदेशा है। अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “हमें निर्णायक निष्कर्षों के लिए आधिकारिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार करना होगा।”

“ईस्टमोजो”  ने खुफिया सूत्रों के हवाले से लिखा कि, घटना शुक्रवार और शनिवार की दरम्यानी रात 1.15 बजे की है।

सर्किल अधिकारी पाठक ने यह कहते हुए टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि वह मीडिया से बात करने के लिए अधिकृत  अधिकारी नहीं हैं।

वहीं खबर लिखे जाने तक भारतीय सेना के आधिकारिक बयान का भी इंतजार था

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!