November 28, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

उत्तराखंड: 106 रिक्त पदों के लिए विज्ञप्ति जारी, आकर्षक वेतन के साथ केवल इंटरव्यू से मिलेगी नियुक्ति

हल्द्वानी : उत्तराखंड के नैनीताल जिले में राजकीय मेडिकल कालेज हल्द्वानी में विभिन्न 106 पदों पर नियुक्तियों के लिए विज्ञप्ति जारी की गई है। यह सभी पद इंटरव्यू के आधार पर भरे जाएंगे। इसके लिए 27 नवंबर को 11:00 बजे से साक्षात्कार शुरू होंगे। बता दें कि यहाँ फैकल्टी का संकट बना हुआ है। इसके लिए कालेज प्रशासन ने इस कमी को दूर करने के लिए यह विज्ञप्ति जारी की है।

मेडिकल कॉलेज प्रशासन द्वारा कुल 24 विभागों में 106 पदों पर नियुक्तियां निकाली गई हैं। प्राचार्य प्रो. जोशी ने बताया कि इंटरव्यू 27 नवंबर को प्राचार्य कार्यालय में पूर्वाह्न 11 बजे से शुरू होंगे। इनमे मेडिकल कालेज के अलग-अलग विभागों में 76 असिस्टेंट प्रोफेसर, 30 एसोसिएट प्रोफेसर और 10 प्रोफेसर नियुक्त किए जाने हैं। सबसे ज्यादा 11 असिस्टेंट प्रोफेसर जनरल मेडिसिन और 09 असिस्टेंट प्रोफेसर सर्जरी विभाग में नियुक्त किए जाने हैं।

वहीं यहाँ रेडियोलाजी विभाग में 02 एसोसिएट प्रोफेसर व 04 असिस्टेंट प्रोफेसर पद के लिए विज्ञप्ति जारी की गई है। इस समय यहां केवल एक प्रोफेसर कार्यरत हैं। जिससे इस विभाग में अल्ट्रासाउंड से लेकर तमाम जांचें प्रभावित हो रही हैं।

इसके अलावा न्यूरोसर्जरी में एक प्रोफेसर, नेफ्रोलाजी में एक प्रोफेसर, एक एसोसिएट प्रोफेसर व एक असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त होना है। साथ ही कार्डियोलाजी विभाग के लिए भी एक प्रोफेसर, एक एसोसिएट प्रोफेसर व एक असिस्टेंट प्रोफेसर की जरूरत है। यूरोलाजी विभाग में एक प्रोफेसर, एक एसोसिएट प्रोफेसर, प्लास्टिक सर्जरी में एक प्रोफेसर को नियुक्त किया जाना है।

प्रोफेसर को प्रतिमाह 1,43,000 रुपये, एसोसिएट प्रोफेसर को 123000 रुपये मिलेगा और प्रतिवर्ष छह हजार रुपये इंक्रीमेंट लगेगा। इसके अलावा असिस्टेंट प्रोफेसर को 95 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन मिलेगा और प्रतिवर्ष इंक्रीमेंट 3600 रुपये मिलेगा।

यह नियुक्ति संविदा पर एक साल के लिए होगी। वहीं बेहतर प्रदर्शन पर 03 साल तक के लिए बढ़ाई जा सकेगी। राजकीय मेडिकल कालेज हल्द्वानी के प्राचार्य प्रो. अरुण जोशी ने बताया कि, मेडिकल कालेज में फैकल्टी की कमी है। इसलिए वॉक इन इंटरव्यू के जरिये नियुक्ति की जाएगी। इसके लिए विज्ञप्ति भी जारी की जा चुकी है। उम्मीद है कि इसके बाद डाक्टरों की कमी दूर हो सकेगी।

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!