December 3, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

उत्तराखंड: गरीबों के हक पर डाका, 800 से ज्यादा अपात्र राशन कार्ड रद्द

काशीपुरः उत्तराखंड में गरीबों के राशन पर डाका डालने का मामला सामने आया है। ऐसे 800 राशन कार्ड निरस्त किये गए हैं। वहीं इस गड़बड़झाला का आरोप सरकारी कर्मियों और व्यापारियों पर लगा है। अधिकारियों की मानें तो अभी भी ऐसे बहुत से लोग हैं, जिन्हें राशन कार्ड की श्रेणी ठीक कराने के लिए 30 नवंबर तक का समय दिया गया है। इसके बाद विभाग उनसे वसूली करेगा।

दरअसल, शासन के निर्देश पर खाद्य विभाग की ओर से राशन वितरण प्रणाली में पारदर्शिता लाने के लिए राशन कार्डों को आधार कार्ड से जोड़ा गया। मार्च से विभाग ने राशन विक्रेताओं को सत्यापन प्रपत्र देकर अंत्योदय (गुलाबी) और प्राथमिक परिवार (पीएचएच) यानी सफेद राशन कार्ड धारकों का सत्यापन कराने के निर्देश दिए थे।

इस दौरान राशन विक्रेताओं के माध्यम से राशन कार्ड धारकों से प्रपत्र भरवाकर वापस कार्यालय में जमा कराए गए। क्षेत्रीय पूर्ति अधिकारी के हस्ताक्षर होने के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर कार्ड धारकों का सत्यापन कर रही है। जिनमें अब तक करीब 800 ऐसे उपभोक्ता सामने आए हैं, जिन्होंने सत्यापन प्रपत्र में मजदूरी या गलत जानकारी दर्शाकर गरीबों का राशन हड़पने में लगे हैं। जिनका अधिकारियों ने राशन कार्ड निरस्त कर नए पात्रों का चयन किया है। शेष करीब 20 प्रतिशत सत्यापन कार्य जारी है।

पूर्ति निरीक्षक आशुतोष भट्ट के मुताबिक, शहर और ग्रामीण क्षेत्र में 110 राशन विक्रेता हैं। जबकि, 2,321 गुलाबी और 30,345 सफेद राशन कार्ड उपभोक्ता पंजीकृत हैं। सफेद और गुलाबी राशन कार्डों का सत्यापन कार्य आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से कराया जा रहा है। अभी तक 80 फीसदी सत्यापन हो चुका है।

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!