December 2, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

सावधान! उत्तराखंड में बढा ओमिक्रोन का खतरा, आज फिर मिले तीन संक्रमित; इन जिलों के मामले..

देहरादून: उत्तराखंड कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के फिर 03 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ तृप्ति बहुगुणा ने बताया कि एक 28 वर्षीय व्यक्ति यमन से भारत आया और जिसका सिंपल मेला चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार द्वारा जांच के उपरांत पॉजिटिव पाया गया है। पॉजिटिव मरीज को आइसोलेट कर आवश्यक कदम उठाए गए हैं।

वही देहरादून के राजपुर रोड निवासी दो मरीज 74 वर्षीय पुरुष और 65 वर्षीय महिला में ओमिक्रोन वेरिएंट के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। यह दोनों मरीज दुबई से लौटे परिवार के संपर्क में आए थे। महानिदेशक डॉ बहुगुणा ने बताया कि 11 दिसंबर को लंदन से देहरादून आई अंतरराष्ट्रीय 34 वर्षीय महिला यात्री की कोविड-19 रिपोर्ट ओमिक्रोन वेरिएंट के लिए नेगेटिव पाई गई।

राज्य में ओमिक्रोन वेरियन्ट के मरीजों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए स्वास्थ्य सचिव डा0 पंकज कुमार पाण्डेय ने आज समस्त जनपदों के सी0एम0ओ0 को ओमिक्रोन वेरियन्ट से बचाव एवं नियत्रंण को लेकर विस्तृत दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। स्वास्थ्य सचिव डा0 पाण्डेय द्वारा जारी निर्देशों में कहा गया है कि सभी चिकित्सा ईकाईयों पर इनफ्लूएन्जा तथा गम्भीर श्वसन संक्रमण ग्रसित मरीजों की सघन निगरानी की जाए और इस प्रकार के समस्त मरीजों का कोविड-19 टैस्ट भी कराया जाए। पूर्व से ही अन्य रोगों द्वारा पीड़ित सवेदनशील मरीजों को भी कोविड-19 जांच की परिधि में रखा जाए एवं पॉजिटिव पाये जाने पर उन्हे होम आईसोलेशन अथवा चिकित्सा ईकाईयों पर यथा उपचार की स्थिति अनुसार रखा जाए।

स्वास्थ्य सचिव के निर्देशों में कहा गया कि होम आईसोलेशन मरीजों पर कंट्रोल रूम के माध्यम से निगरानी रखी जाए तथा उनके घर पर जाकर भी देखा जाए, सभी कोविड पॉजिटिव व्यक्तियों के सम्पर्क में आये लोगों की सघन ट्रेसिंग की जाए तथा औसतन 20 सम्पर्क में आये हुए व्यक्तियों की आई0सी0एम0आर गाईड लाईन के अनुसार कोविड जांच की जाए।

डा0 पंकज कुमार पाण्डेय ने निर्देश दिए हैं कि कुल कोविड जांच के अनुपात में आर0टी0पी0सी0आर टैस्ट अधिक कराए जाएं सभी पोजिटिव सैम्पल बिना किसी विलम्ब के जिनोम सिकसिंग हेतु दून मेडिकल कॉलेज की लैब को उपलब्ध कराए जाएं। स्वास्थ्य सचिव ने यह भी कहा कि आमजन मानस द्वारा मास्क लगाए जाना सुनिश्चित कराया जाए तथा कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन किए जाने के बारे में समुदाय की सहभागिता को लेकर व्यापक जागरूकता उत्पन्न की जाएं।

शत-प्रतिशत कोविड वैक्सीनेशन को कराए जाने के सभी सम्भव प्रयास अमल में लाए जाएं और इसे अभियान के तौर पर चला कर 100% वैक्सीनेशन का कार्य पूर्ण किया जाए। सी0एम0ओ को जारी निर्देशों में कहा गया कि अस्पतालों में आईसोलेशन बेड, ऑक्सीजन बेड, आई0सी0यू0 बेड तथा रेफरल हेतु एम्बूलेन्सकोविड वाहनों की समुचित उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए। इसके अतिरिक्त चिकित्सालयों में ऑक्सीजन सिलैण्डर, ऑक्सीजन कन्सनट्रेटर तथा ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट का संचालन पूर्ण रखा जाए।

स्वास्थ्य सचिव ने यह भी निर्देशित किया है कि जिला स्तर पर एक टीम गठित कर ली जाए जिसमें प्रशासन, पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ट अधिकारियों को सम्मिलित करते हुए होम आईसोलेशन, क्वारेनटाईन एवं कन्टेनमेन्ट जैसी गतिविधियों को प्रभावी तौर पर अमल में लाया जाए। उन्होने सभी जिला स्तरीय कोविड कंट्रोल रूम को संचालित करने एवं कंट्रोल रूम में प्रशिक्षित कार्मिकों तथा टेलीफोन आदि की व्यवस्थाएं दुरस्त करते हुए कंट्रोल रूम न0 को व्यापक स्तर पर प्रसारित करने के निर्देश भी दिए हैं।

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!