December 3, 2022

उत्तराखंड जन

जन-जन की आवाज..

उत्‍तराखंड का लाल शहीद, 24 साल की उम्र में दिया सर्वोच्च बलिदान, परिजन बेसुद

टिहरी: उत्तराखंड ने आज एक और लाल खो दिया है। टिहरी निवासी गौतम लाल उग्रवादियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गए हैं। उनकी शहादत की खबर के बाद से प्रदेश में शोक की लहर है। वहीं 24 साल की उम्र में बेटे की शहादत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। शहीद गौतम लाल इंटर के बाद कर्नल अजय कोठियाल के यूथ फाउंडेशन के ट्रेनिंग कैंप में रहे और साल 2018 में सेना में भर्ती हुए थे।

जानकारी के अनुसार, नागालैंड के मोन जिले में शनिवार को फायरिंग में देवभूमि का बेटा गौतम लाल (24) शहीद हो गया। वह तीन साल पहले असम राइफल्स में भर्ती हुए थे। पैराशूट रेजिमेंट में 21वीं बटालियन के पैराट्रूपर थे। शहीद गौतम टिहरी जिले के नौली गांव निवासी थे।

शहीद के पिता का नाम रमेश लाल गांव में मेहनत मजदूरी का काम करते हैं और माता रूपा देवी गृहणी है। शहीद गौतम लाल सहित 5 भाई एवं 2 बहनें हैं. गौतम अपने घर के सबसे छोटे थे। शहीद गौतम अविवाहित थे। राजकीय इंटर कॉलेज हिंसरियाखाल से इंटरमीडिएट की पढ़ाई करने के बाद वह सेना में भर्ती हो गए थे। इन दिनों वह नागालैंड ड्यूटी में थे।

एक महीने की छुट्टी काटकर 2 नवंबर को वह ड्यूटी पर वापस लौटे थे। 3 तारीख सुबह गौतम की उनके भाई से फोन पर बात हुई थी। आज सुबह उनकी यूनिट से गौतम लाल के शहीद होने की खबर आई।गौतम के भाई सुरेश को फोन पर उसके शहीद होने की सूचना दी गई। उनकी शहादत की सूचना मिलते ही सुरेश जमीन पर गिरकर रोने लगा। शहीद ने परिजनों को जनवरी में घर आने की बात की थी, लेकिन उससे पहले उनकी शहादत की खबर आ गई। उनकी शहादत के बाद से उनके घर मे परिजनों को सांत्वना देने के लिए लोगों का तांता लगा है।

error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!