25 February 2024

हरिद्वार : मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. वी. षणमुगम ने लोकसभा सामान्य निर्वाचन की तैयारियों को लेकर ली बैठक, दिए आवश्यक दिशा- निर्देश

हरिद्वार : मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड वी. षणमुगम की अध्यक्षता में बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में आगामी लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2024 के दृष्टिगत प्रारम्भिक तैयारियों के सम्बन्ध में एक बैठक आयोजित हुई। मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड वी. षणमुगम को बैठक में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से आगामी लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2024 के लिये क्या-क्या तैयारियां की जा रही हैं, के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने जनपद की कुल कितनी जनसंख्या है, उनमें से कितने मतदाता हैं, के बारे में जानकारी दी तथा आगे अवगत कराया कि जनपद के कुल 1713  पोलिंग स्टेशन के फोटोयुक्त निर्वाचक नामावली का अन्तिम प्रकाशन दिनांक 22 जनवरी, 2024 को कर दिया गया है, जिसमेें कुल 1453842 मतदाता हैं तथा आलेख्य प्रकाशन के पश्चात् जनपद में 28014 मतदाताओं की वृद्धि हुयी है। इस पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सन्तोष व्यक्त किया।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड ने बैठक में पोलिंग स्टेशनों में मतदाताओं को दी जाने वाली सुविधाओं-पीने के पानी की व्यवस्था, बिजली, फर्नीचर, वेटिंग रूम, महिला/पुरूष शौचालय, रैम्प आदि के बारे में जानकारी ली तो जिलाधिकारी ने बताया कि कहा पर क्या-क्या सुविधायें दी जानी हैं, चिह्नित कर ली गयी हैं। उन्होंने दिव्यांगजनों तथा 80 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके मतदाताओं के बारे में जानकारी ली तो जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में 8803 दिव्यांगजन है तथा 22200 वरिष्ठ मतदाता 80 वर्ष से ऊपर के हैं। इस पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने निर्देश दिये कि ऐसे मतदाताओं का विशेष ध्यान रखा जाये। 
मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड वी. षणमुगम द्वारा जिलाधिकारी से ईवीएम तथा वीवीपैट के सम्बन्ध में जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि ईवीएम तथा वीवीपैट पर्याप्त संख्या में हैं। उन्होंने स्टेश्नरी, वीडियोग्राफी, सीसीटीवी कैमरा, टेण्ट व वैरिकेटिंग, विभिन्न प्रकार के फार्मों की छपाई की तैयारी आदि के सम्बन्ध में जानकारी ली तो जिलाधिकारी ने बताया कि इन सभी का टेण्टर हो चुका है। बैठक में जिलाधिकारी ने चुनाव के समय कुल कितने मैन पावर की आवश्यकता पड़ेगी के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि चुनाव से सम्बन्धित जितनी भी व्यवस्थायें होती हैं, के सम्बन्ध में कार्य का आवंटन कर दिया गया है।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड ने चुनाव से सम्बन्धित विभिन्न कार्यों को सम्पन्न कराने वाले अधिकारियों के प्रशिक्षण के सम्बन्ध में जानकारी ली तो जिलाधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग द्वारा प्रशिक्षण का जो कैलेण्डर आरओ, एआरओ तथा अन्य अधिकारियों  के लिये जारी किया गया है, उसी अनुसार सभी को ट्रेनिंग दिलाई जा रही है। चुनाव व्यय मॉनिटरिंग प्लान के सम्बन्ध में मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा पूछे जाने पर मुख्य कोषाधिकारी ने बताया कि इसके लिये टीमों का गठन कर दिया गया है तथा इन्हें जल्दी ही ट्रेनिंग दिलाई जायेगी। उन्होंने नेटवर्क कनेक्टविटी के सम्बन्ध में जानकारी ली तो अधिकारियों ने बताया कि कनेक्टविटी की कोई दिक्कत नहीं है। बैठक में बजट की स्थिति की भी व्यापक समीक्षा की गयी । 
मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड वी. षणमुगम द्वारा विगत लोक सभा तथा विधान सभा चुनावों में कितना वोटर टर्न आउट रहा, के सम्बन्ध में जानकारी ली तो जिलाधिकारी ने विस्तार से इस सम्बन्ध में जानकारी दी तथा बताया कि जिन पोलिंग स्टेशनों में कम मतदान हुआ था, उसे चिह्नित कर लिया गया है तथा ऐसे पोलिंग स्टेशनों में मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिये स्वीप आदि की गतिविधियों से ’’हर द्वार करेगा मतदान’’ अभियान के तहत पूरी रणनीति बना ली गयी है। इस पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिये हर प्रकार के साधन-वोटर एवारनेस फोरम, चुनाव पाठशाला, कैम्पस एम्बेस्डर, इलक्ट्रोल लिटरेसी क्लब, बूथ एवारनेस गु्रप का गठन, सोशल मीडिया, नुक्कड़ नाटक, विज्ञापन, चौपाल आदि का भरपूर उपयोग करते हुये 75 प्रतिशत से भी अधिक का मतदान करवाना सुनिश्चित किया जाये।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बैठक में कानून एवं व्यवस्था के सम्बन्ध में जानकारी ली तो अधिकारियों ने चुनाव सम्पन्न कराने के लिये कितनी फोर्स की आवश्यकता होगी, कौन-कौन से क्षेत्र संवेदनशील हैं, कौन से क्षेत्र अतिसंवेदनशील हैं, जिला बदर, गुण्डा ऐक्ट, गैंगस्टर, अवैध अस्त्र-शस्त्र, हथियारों को जमा करवाना आदि के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी तथा बताया कि कानून-व्यवस्था के सम्बन्ध में हर तरह चौकसी बरती जा रही है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने निर्देश दिये कि जनपद के बॉर्डर एरिया पर भी विशेष फोकस किया जाये।
अवैध शराब के सम्बन्ध में एक्साइज विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हम इस पर निरन्तर नजर रखे हुये हैं तथा टीमों का गठन कर दिया गया है, जिसने अभी तक 1457 लीटर अवैध शराब बरामद की है। इस पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने एक्साइज विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि हर उस स्थान पर सीसीटीवी कैमरा स्थापित किये जायें, जहां पर इस तरह की गतिविधियां होने की संभावना है व चेकपोस्टों पर 24 घण्टे निगरानी के साथ ही आधुनिक तकनीक का उपयोग किया जाये तथा उसकी नियमित रूप से मॉनिटरिंग की जाये एवं समय-समय पर इसकी समीक्षा भी करना सुनिश्चित करें। मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तराखण्ड वी. षणमुगम ने जिला कण्ट्रोल रूम की जानकारी ली तो अधिकारियों ने बताया कि इसकी स्थापना कर दी गयी है तथा अभी तक चुनाव से सम्बन्धित 80 प्रकरणों का निस्तारण किया गया है।
बैठक में मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने एक-एक करके सभी नोडल अधिकारियों से उन्हें चुनाव से सम्बन्धित जो कार्य आवंटित किये गये हैं, की तैयारियों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी ली तथा कंटीजेंसी प्लान भी तैयार रखने सहित विभिन्न चुनाव से सम्बन्धित कार्य किस तरह से सम्पन्न कराये जाने के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश दिये। बैठक के पश्चात मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बीएचईएल शिवडेल स्कूल स्थित काउण्टिंग सेण्टर आदि का भी निरीक्षण किया।
इस अवसर पर अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रमेन्द्र डोबाल, संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी नमामि बंसल, संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रताप लाल शाह, मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन)/उप जिला निर्वाचन अधिकारी पीएल शाह, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) दीपेन्द्र सिंह नेगी, नगर आयुक्त वरूण चौधरी, सचिव एचआरडीए उत्तम सिंह चौहान, संयुक्त मजिस्ट्रेट रूड़की दिवेश शाशनी, संयुक्त मजिस्ट्रेट देहरादून, सीटीओ नीतू भण्डारी, डिप्टी कलक्टर मनीष सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट रविन्द्र जुवॉंठा, एसडीएम सदर अजय वीर सिंह, एसडीएम लक्सर गोपाल चौहान, एसडीएम भगवानपुर जितेन्द्र कुमार, डिप्टी कलक्टर लक्ष्मीराज चौहान, डिप्टी कलक्टर प्रेमलाल, एसएलओ देहरादून व ऋषिकेश, एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार सिंह, एसपी ट्रैफिक पंकज गैरोला, एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. मनीष दत्त, एएसडीएम रूड़की  विजयनाथ शुक्ल, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश, डीपीआरओ अतुल प्रताप सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी, डीएसटीओ नलिनी ध्यानी, सहायक निर्वाचन अधिकारी अरूणेश पैन्यूली, आरएम सिडकुल जीएस रावत, एआरटीओ रश्मि पन्त, अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण सुरेश तोमर, अधिशासी अभियन्ता पेयजल राजेश गुप्ता, जिलापूर्ति अधिकारी तेजबल सिंह, सूचना अधिकारी एनआईसी  यशपाल, आपदा प्रबन्धन अधिकारी मीरा रावत, जिला शिक्षा अधिकारी पी. भण्डारी, एआर कोआपरेटिव पीएस पोखरिया, सहायक गन्ना आयुक्त शैलेन्द्र सिंह, समाज कल्याण अधिकारी टीआर मलेठा, सीओ सिटी जूही मनराल, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी देवन्द्र सिंह अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी उदय वीर सिंह बर्त्थवाल, सहित सम्बन्धित नोडल अधिकारीगण उपस्थित थे।