15 April 2024

ये हैं देश के 100 सबसे ताकतवर लोग, इस नंबर पर है मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का नाम

नई दिल्ली : इंडियन एक्सप्रेस ने देश के टाॅप 100 पावरफुल लोगों की लिस्ट जारी की है। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अतिम शाह, सीएम योगी और चीफ जस्टिस भी शामिल हैं। इस लिस्ट में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी शामिल है। धामी पिछले बार इस लिस्ट में 93वें नंबर थे। लेकिन, इस बाद उन्होंने लंबी छलांग लगाई और 63वें स्थान पर पहुंच गए।  लिस्ट में राजनीति, बिजनेस से लेकर फिल्मी जगत के लोगों के नाम शामिल हैं। यहां हम आपको 10 टॉप लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं। ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा भी इस लिस्ट में शामिल हैं। इसके अलावा पहलवान विनेश फोगाट को भी इस लिस्ट में जगह मिली है।

लोकसभा चुनाव से पहले इंडियन एक्सप्रेस की ‘मोस्ट पावरफुल इंडियन’-IE 100 2024 की लिस्ट में पीएम मोदी पहले और गृहमंत्री अमित शाह दूसरे नंबर पर बने हुए हैं। ऐसा लगातार 7वें साल हो रहा है कि पीएम मोदी और अमित शाह इस लिस्ट में नंबर एक और दो पर हैं। लिस्ट यह भी दिखाती है कि टॉप-10 नेताओं में चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और बिजनेसमेन गौतम अडानी के अलावा सभी नाम बीजेपी और आरएसएस से संबंध रखते हैं। विपक्ष के तीन अहम नाम–राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी टॉप-10 नेताओं के बाद आते हैं। ‘मोस्ट पावरफुल इंडियन’-IE 100 2024 की लिस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पहले नंबर पर रखा गया है। इसकी वजह उनकी दूसरे कार्यकाल में बढ़ी लोकप्रियता और कुछ बड़े फैसलों को माना गया है। जिसमें 370 को हटाए जाने की प्रमुखता से बात की गई है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट कहती है कि वह भले ही भाजपा प्रमुख नहीं हैं लेकिन अमित शाह ही पार्टी के मुख्य रणनीतिकार हैं। अमित शाह ने कई मोर्चों पर पार्टी की कमान संभाली है और कई बड़े फैसलों में उनका नाम रहा है। हाल ही में हुए मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनावों में पार्टी की रणनीति का क्रडिट भी उन्हें ही दिया जाता रहा है। कई बड़े फैसलों जैसे–370 में भी उनके योगदान की बात की जाती है। उनके सोशल मीडिया पर 34.5 मिलियन फॉलोअर्स हैं।

मोहन भागवत उस समय आरएसएस के सरसंघचालक हैं जब संघ परिवार की विचारधारा देश की सत्ता में बिना किसी रुकावट के बनी हुई है। अनुच्छेद 370 और राम मंदिर–जिन्हें RSS के दो अहम मुद्दों के तौर पर देखा जाता था–पूरे हो गए हैं। पीएम मोदी ने अपने 22 जनवरी के भाषण में इस बात को रेखांकित किया कि मंदिर राम से राष्ट्र और “देव से देश” की यात्रा का प्रतीक है। यह RSS के एक संकल्प के पूरा होने की तरह था। ऐसे वक्त में मोहन भागवत का आरएसएस का चीफ होना उनके पावर को दर्शाता है।